Header Ads

Ballia Top News: लोकतंत्र के दुश्मन: ग्रामीण बेहाल, ग्राम प्रधान खुशहाल..


बलिया टॉप न्यूज़, बलिया: सोहांव ब्लाक खंड के अंतर्गत गाँव सरयाँ बीते समय में निर्मल ग्राम के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजा गया था. जहां निर्वतमान समय मे कार्यरत देश एवं प्रदेश की सरकार द्वारा चलाये जा रहे स्वच्छता अभियान एवं विकास के योजना के अंतर्गत जहां अन्य गाव उन्नति की सीढ़ी पर अग्रसर हैं, वही यह गाँव के प्रशासन द्वारा राष्ट्रपति पुरस्कार के तमगे को धूमिल किया जा जा रहा है.
       गांव की गलियों की हालत बद से भी बदतर है. ग्रामीणों के मिली जानकारी के अनुसार नए कार्यकाल में ग्राम प्रधान द्वारा लगभग साढ़े तीन साल तक कोई भी विकास का कार्य नही किया गया. अब जब इनका कार्यकाल समाप्त होने के कगार पर है तो दीपावली पूजा के पहले ही गाव की गलियों उखाड़कर अनमने ढंग से उसी ईंट को फिर से बिछा दिया गया और नालियों को वैसे ही छोड़ दिया गया. जिससे गलियों में सबके घरो से निकलने वाले गंदे पानी अब सीधे गलियों में बह रहे हैं. जिससे गलियों की स्थिति बदहाल है. फिसलन इतनी अधिक है कि पढ़ने जाने विद्यार्थी आये दिन अपने स्कूली परिधान में ही इस कीचड़ में गिर जा रहे है और गंभीर चोट का शिकार हो रहे हैं.
    हालांकि, मौके पर बातचीत के लिए न ही ग्राम प्रधान और न ही कोई प्रतिनिधि जन उपलब्ध थे. लेकिन आकलन के वक्त ग्रामीण जनों में काफी रोष था.
मौके पर विनय राय, लव राय, कुश राय, विजेंद्र , भीम, सरोज यादव , विनीत त्रिपाठी, मुकेश तिवारी, अमरनाथ यादव , दीनानाथ यादव और भी कई ग्रामीणजन और पढ़ने वाले बच्चे भी मौजूद थे. इनमें से विनय राय ने तो यहां तक बताया कि गांव में केवल गलियों की ही समस्या नही है बल्कि राशन कार्ड से लेकर वोटर लिस्ट में नाम तक विभिन्न प्रकार की समस्याओं से ग्रामीणजन त्रस्त  हैं. ग्रामप्रधान को कई कई बार इन समस्याओ से अवगत कराने के बाद भी इनपर कोई प्रभाव नही है.

बलिया से संजीव राय की रिपोर्ट

No comments